Mutual Fund Kya he ? Mutual Fund me Investment Start Kaise Kare

0
3

Mutual Fund Kya he ? Mutual Fund me Investment Start Kaise Kare ?

नमस्कार दोस्तों, Agar aap apne Investment ke bare serious he to ye article apki life badal sakta he. इस article में, मैं आपको म्यूचुअल फंड के बारे में batane wala hu. म्यूचुअल फंड क्या है? इसमें INVESTMENT कैसे करें? मूल रूप से इसके बारे में सभी आवश्यक जानकारी.

एक आम आदमी या एक शुरुआती Investor, jise mutual funds me Invest to karna he, par mutual funds he kya aur ek achcha mutual fund kaise pick kare wo nahi pata, ye सभी जानकारी आपको इस वीडियो में मिलेगी to article ko pura jarur padhna।

Dosto me, aise hi topics par article banata rehta hu, agar apko ye topics ache lagte he to mere sath jud jaye. Facebook per ya YouTube Channel par judne se apko aise hi naye articles milte rahenge.

Mutual Fund Kya he, Mutual Fund me Investment kaise kare

दोस्तों हर महीने जब आपकी सैलरी क्रेडिट हो जाती है तो आप उस सैलरी का कुछ हिस्सा सेविंग के तौर पर रख लेते हैं। jyada tar Emergency के लिए या यदि आप घर, या कार purchase karna चाहते हैं ।

Log Savings kaise karte he?

Jyadatar log apna savings ka paisa apne bank account me hi pade rehne dete he. यह बहुत बुरा तरीका है दोस्तों, क्योंकि ऐसा पैसा अपना Valuation खो देता है. हमारे देश में INFLATION बढ़ raha है और उसके कारण वस्तुओं की कीमत बढ़ रही है। तो आपके पैसे का VALUE,  INFLATION दर के अनुसार हर साल 4-5% कम होता रहता है। लोग पैसे का INVESTMENT इसलिए करते हैं ताकि वे  apne paise ka VALUE न खोएं। INVESTMENT करने के लिए अलग-अलग जगह हैं। हमारे देश में, मुख्य रूप से log, 5 jagaho par apna INVESTMENT karte हैं। chaliye pehle isko jan lete he..

  • नंबर 1 बचत खाता है,
  • नंबर 2 FD या Fixed Deposite है,
  • नंबर 3 Gold ya Jewellery,
  • नंबर 4 रियल एस्टेट,
  • नंबर 5 Aur कुछ लोग जो अधिक RISK लेना चाहते हैं, वे शेयर बाजार में भी INVESTMENT करते हैं जो आपके पैसे ko INVEST करने का एक और तरीका है।

हर INVESTMENT में 3 चीजें होती हैं, रिटर्न, Risk और time। रिटर्न का मतलब है कि आप INVESTMENT से कितना प्रतिशत PROFIT कमा रहे हैं, यह आमतौर पर Persentage में देखा जाता है। अगर हमारी महंगाई दर ४% है तो आपको यह देखना चाहिए कि आपका मुनाफा कम से कम ४% से अधिक है अन्यथा INVESTMENT का कोई मतलब नहीं है.

Agar App pura article padhna nahi Chahte he to, ye video ko dekh lijiye. Apko puri Jankari mil jayegi jo iss Article me likhi he.

RISK का मतलब है कि INVESTMENT करना कितना RISK भरा है, उस INVESTMENT में आपका सारा पैसा खोने की क्या संभावना है ?। वहां INVESTMENT करने के बाद घाटे में जाने की क्या संभावना है।

और समय का मतलब है कि आप कितने समय के लिए INVESTMENT कर रहे हैं। इसलिए यहां Main RISK यह है कि समय अधिक है, RISK अधिक है तो PROFIT भी अधिक होगा। यदि आप अपने INVESTMENT पर अधिक रिटर्न चाहते हैं तो आपको अधिक RISK लेना होगा और लंबी अवधि के लिए INVESTMENT करना padega.

Dosto, Saving Accounts में kam se kam RISK होता है और कोई limitation भी नहीं है। आप किसी भी समय पैसे dal सकते हैं या निकाल सकते हैं। लेकिन यहां हमें जो रिटर्न मिलता है वह भी बहुत कम है, केवल 3 se 4%.  जबकि पिछले कुछ वर्षों में हमारी INFLATION दर 4-5% रही है, Isliye mene pehle hi kaha ki Saving Account me paisa rakhna fayde ka soda nahi he.

Fixed Diposite भी एक Low RISK विकल्प है लेकिन इसकी एक समय सीमा है इससे पहले हम पैसा बाहर Nahi Nikal Sakte। इसलिए रिटर्न भी थोड़ा ज्यादा है, कुछ हद तक 7-8%

सोने और आभूषणों में इन दिनों काफी RISK है, उनकी कीमतों में बहुत उतार-चढ़ाव होता है यदि आप Sone ka इतिहास dekhe, तो आपको पता चलेगा कि 2012 तक कीमतें लगातार बढ़ रही थीं। आपने 2012 से पहले INVESTMENT किया होता तो आपको यहां अच्छा रिटर्न मिलता। लेकिन 2012 के बाद कई उतार-चढ़ाव आए हैं लेकिन उन्होंने एक स्तर बनाए रखा है, इसलिए ज्यादा PROFIT नहीं हुआ है। Lekin Last year Gold ne achcha return diya he.

Properties ya real estate में  risk Low to Medium है, मैं कहूंगा कि आप पिछले कुछ वर्षों में भारत के आवास की कीमतों को देख सकते हैं। यह बहुत ऊपर और नीचे आया है। 2011 se lekar 2018 tak, isne kabhi 30% tak ka return diya aur kabhi sirf 5% tak ka. Real Estate me INVESTMENT करने में एक नुकसान यह है कि इसके लिए बहुत अधिक Paiso की आवश्यकता होती है, Isme INVESTMENT करने के लिए आपके पास lakho me रुपये होने चाहिए। Jo sabke pass hona mumkin nahi he. Yaha par hum bat kar rahe he chhote investor ki.

Log Share Bazaar me Invest Kyu Karte He ?

आपने शेयर बाजार के बारे में तो सुना ही होगा, यहां आपको ढेर सारा रिटर्न मिल सकता है लेकिन नुकसान भी utna hi ho sakta he। शेयर बाजार में INVESTMENT का RISK उस company ke स्टॉक पर निर्भर करता है जिसमें आप INVESTMENT कर रहे हैं। Agar app direct share market me Invest karna chahte he to आपको uss company ka aur stock market kaise kam karta he uska pura ज्ञान होना चाहिए. अगर आपको यह ज्ञान नहीं है तो आपको यहां INVESTMENT नहीं करना चाहिए।

तो ये कुछ मुख्य प्रकार के INVESTMENT हैं जो मैंने आपको बताए हैं लेकिन कुछ अन्य प्रकार के भी हैं। सरकारी बॉन्ड, कॉरपोरेट बॉन्ड की तरह, हमारे पास इन दिनों क्रिप्टो करेंसी भी है, लोग भी बिटकॉइन में INVESTMENT करते हैं.

Dosto, Investment ka एक Simple Thumb Rule है कि आपको कभी भी अपना पैसा केवल एक ही स्थान पर INVEST नहीं करना चाहिए। Never put your all eggs in single basket. आपको अलग-अलग जगहों पर INVESTMENT करना चाहिए ताकि अगर कोई ek sector crash ho jaye तो आपको नुकसान kam ho।

Hala ki, सोना, Properties और यहां तक ​​कि शेयर बाजार ek sath पूरी तरह से crash ho jaye ऐसा bahut कम ही dekhne ko milta  है, Lekin Agar apka investment alag alag jagaho par है  aur अगर एक sector crash हो jata है तो आपको दूसरी jagah से PROFIT मिल jata he aur apka overall Investment me jyada utar chadhav nahi dekhne ko milte he..

Dosto Jab aap apna paisa, alag alag jagaho par Invest karte he to इसे Diversification कहा जाता है, म्यूचुअल फंड एक खास तरह का INVESTMENT है जिसके जरिए आप अलग-अलग तरह के INVESTMENT एक साथ कर सकते हैं। आप एक जगह INVEST करके डायवर्सिफाई INVESTMENT कर सकते हैं। Chaliye thoda vistrut se jante he Mutual Fund ke bare me.

Mutual Fund Kya He ?

Dosto, Generally Asset Management कंपनी म्यूचुअल फंड शुरू करती है. मूल रूप से jab aap Mutual Funds me Invest karte he to आप अपना पैसा Aisi एसेट मैनेजमेंट कंपनी को देते हैं और आप जैसे कई लोग ऐसा करते हैं। वह कंपनी सारा पैसा सामूहिक रूप से अलग-अलग जगहों पर INVEST karte है। Ye company apke paise ko sahi jagah Invest kiya jaye uske liye Investment Experts ya Fund Manager ko नियुक्त karti है . वे अलग-अलग जगहों पर पैसा लगाते हैं और इन अलग-अलग जगहों से सामूहिक रूप से मिलने वाले रिटर्न रेट में से 1-2% का कुछ छोटा प्रतिशत एसेट कंपनी द्वारा PROFIT के रूप में रखा जाता है और बाकी आपको उस रिटर्न रेट के अनुसार वापस मिल जाता है।

एचडीएफसी, एचएसबीसी, आईसीआईसीआई, आदित्य बिड़ला, रिलायंस, टाटा, ये कुछ कंपनियों और बैंकों के उदाहरण हैं जिन्होंने अपनी स्वयं की Asset Management कंपनी शुरू की है। सभी कंपनियां बड़ी संख्या में विभिन्न प्रकार के म्यूचुअल फंड शुरू करती हैं। उदाहरण के लिए ICICI ने 1200 से अधिक म्यूचुअल फंड शुरू किए हैं। तो आपका म्यूचुअल फंड कितना RISK भरा है और रिटर्न क्या है यह इस बात पर निर्भर करता है कि आप किस म्यूचुअल फंड में INVESTMENT कर रहे हैं।

Mutual Fund kitana Returns Dete he?

म्यूचुअल फंड 4% se lekar 30% aur use jyada ka bhi रिटर्न दे सकते हैं। यह zero RISK और high RISK का भी हो सकता है। क्योंकि यह सब इस बात पर निर्भर करता है कि एसेट मैनेजमेंट कंपनी आपका पैसा कहां INVEST कर रही है। अगर वह कंपनी शेयरों में INVESTMENT कर रही है तो यह ज्यादा RISK भरा होगा और आपको ज्यादा रिटर्न मिलेगा और अगर वह सरकारी बॉन्ड में INVESTMENT कर रही है तो यह कम RISK भरा होगा aur return bhi apko kam milega।

Mutual Funds kitne Types ke Hote he ?

Chaliye ab jante he Mutual Funds ke types। हम इसे 3 types में विभाजित कर सकते हैं: इक्विटी म्यूचुअल फंड, डेट म्यूचुअल फंड और हाइब्रिड म्यूचुअल फंड

Equity Mutual Funds kya he ?

इक्विटी म्यूचुअल फंड में, आपका पैसा शेयर बाजार में INVESTMENT किया jata he। तो स्वाभाविक रूप से इस प्रकार के म्युचुअल फंड में आमतौर पर RISK अधिक होता है और रिटर्न भी adhik hota he। इक्विटी म्यूचुअल फंड aam tor par 3 prakar ke hote he. अगर apka paisa बड़ी कंपनी JISKA MARKET CAPITALIZATION 20,000 Crs je jyada he, usme Invest ho raha he तो इसे लार्ज कैप इक्विटी फंड कहा जाता है।

छोटी कंपनियों की तुलना में बड़ी कंपनी में ज्यादा RISK नहीं होता है लेकिन बड़ी कंपनियों की विकास दर उतनी नहीं होगी जितनी छोटी कंपनियों के लिए हो सकती है। इसलिए बड़ी कंपनियों में रिस्क और रिटर्न dono कम होता है।

ICICI प्रूडेंशियल ब्लू चिप फंड लार्ज कैप इक्विटी फंड का एक उदाहरण है। अगर आप यहां एक साल के लिए INVESTMENT करते हैं तो एक साल के बाद आपका Expected रिटर्न 11.3% है लेकिन अगर आप 5 साल के लिए INVESTMENT करते हैं तो आपका अपेक्षित रिटर्न 19.7% हो सकता है जैसा कि मैंने वीडियो की शुरुआत में बताया है, जितना अधिक समय आप INVEST karenge, utna अधिक रिटर्न ki आप उम्मीद कर सकते हैं।

अगर apka paisa Mid cap company JISKA MARKET CAPITALIZATION 5000 Crs se 20,000 Crs ke bich me, usme Invest ho raha he तो इसे Mid Cap इक्विटी फंड कहा जाता है। Isme Risk aur Return Largecap ke mukabale jyada rahta he. Ye aisi company he jo growing stage me he.

अगर apka paisa Small cap company JISKA MARKET CAPITALIZATION 5000 Crs se kam he, usme Invest ho raha he तो इसे Small Cap इक्विटी फंड कहा जाता है। Isme Risk aur Return Largecap aur Mid Cap ke mukabale bahut jyada rahta he. Ye aisi company he jisme growth ka potential high he.

अगला Equity Mutual Fund ka प्रकार है डायवर्सिफाई इक्विटी फंड्स jise multi cap ya flexi cap Funds bhi kaha jata he. यहां apke paise ko लार्ज, मीडियम और स्मॉल कैप tino type ki company yo me kiya jata he. Isme apka Risk aur return upar ke mukabale average ho jata he.

Ye sabhi mutual funds me, apke profit ke paiso par tax lagta he,

Equity Mutual Funds ka अगला प्रकार है इक्विटी लिंक्ड सेविंग स्कीम यानी ELSS, यह एक विशेष प्रकार का इक्विटी फंड है जहां आप APKE टैक्स को बचा सकते हैं। आप इसके PROFIT पर TAX बचा सकते हैं। Iska ek nuksan yah he ki, yaha apke paise ko 3 sal ke liye lock in kar diya jata he. Matlab aap, 3 sal se pehle apka paisa nahi nikal sakte.

अगला प्रकार है सेक्टर म्यूचुअल फंड, यहां विशेष रूप से ऐसी कंपनियों का INVESTMENT किया जाता है, जो KOI SPECIFIC SECTOR SE JUDI HO, Jaise technology, Automobile, metal etc. ये फंड अधिक RISK भरे होते हैं, क्योंकि सारा INVESTMENT एक सेक्टर में किया जाता है, इसलिए यदि सेक्टर नीचे जा रहा है apko jyada loss hoga.

अंतिम प्रकार का इक्विटी फंड जो मैं आपको बताना चाहूंगा वह है इंडेक्स फंड। इंडेक्स फंड निष्क्रिय फंड हैं जो Asset Management company ka का कोई एजेंट नहीं chalata. ये sirf Sensex Index के sath ऊपर और नीचे hota he। सेंसेक्स और निफ्टी की कीमत को देखते हुए यह बदलता रहता है।

डेट म्यूचुअल फंड kya hote he ?

अब दोस्तों. म्यूचुअल फंड की दूसरी कैटेगरी पर नजर डालते हैं, वह है डेट म्यूचुअल फंड। ये वे म्युचुअल फंड हैं जिन्हें डेट इंस्ट्रूमेंट्स पर INVESTMENT किया जाता है। डेट इंस्ट्रूमेंट हैं बॉन्ड, डिबेंचर, डिपॉजिट के सर्टिफिकेट कभी अगर सरकार को पैसे की जरूरत होती है और यह बजट के माध्यम से नहीं मिलने पर सरकार लोगों से पैसे उधार लेती है। और लोगों से कर्ज लेते हैं। इसे बांड कहा जाता है आप यहां INVESTMENT कर सकते हैं, सरकार को दे सकते हैं और सरकार आपको एक निश्चित ब्याज के बाद पैसा वापस कर देगी। अब डेट म्यूचुअल फंड कई तरह के होते हैं,

आइए पहले बात करते हैं लिक्विड फंड्स के बारे में लिक्विड फंड वे म्यूचुअल फंड होते हैं जिन्हें आसानी से और जल्दी से कैश में बदला जा सकता है। अर्थशास्त्र में Liquid ka matlab jise asani se नकदी में बदला जा सकता है। तो इस चीज को एक-दो दिन में कैश में बदला जा सकता है। लेकिन इसमें बहुत कम RISK होता है, इतना कम कि आप मूल रूप से इसे बचत खाते के विकल्प के रूप में मान सकते हैं। आपको yaha par एक साल में 7% tak  का रिटर्न मिलेगा। यहां आप ग्राफ में देख सकते हैं कि इसकी ग्रोथ कितनी सुसंगत है, इसलिए यह दिखा सकता है कि यहां RISK कितना कम है। पिछले 5 वर्षों से, यह इस Persentage के साथ धीरे-धीरे बढ़ रहा है।

अगला प्रकार है गिल्ट फंड, ये वे फंड हैं जहां सरकार द्वारा जारी बांड पर INVESTMENT किया जाता है। इसलिए तकनीकी रूप से इसमें शून्य RISK है क्योंकि सरकार के लिए यह कभी भी संभव नहीं है कि वह आपका पैसा वापस न करे। ज्यादातर ब्याज दर में उतार-चढ़ाव हो सकता है।

अगला प्रकार फिक्स्ड मैच्योरिटी प्लान है और इसे फिक्स्ड डिपॉजिट, FD के विकल्प के रूप में माना जा सकता है। क्योंकि इसमें FD की तरह ही बहुत कम RISK होता है और यह एक निश्चित समय के लिए किया जाता है। यहां एक निश्चित समय के लिए INVESTMENT किया जाता है और आप उससे पहले पैसे नहीं ले सकते। तो ये कुछ मुख्य प्रकार के डेट फंड हैं

हाइब्रिड म्यूचुअल फंड Kya hote he ?

म्यूचुअल फंड की तीसरी श्रेणी है हाइब्रिड म्यूचुअल फंड . मूल रूप से यह एक डेट और इक्विटी म्यूचुअल फंड का मिश्रण है। कुछ लोग शेयर बाजार में INVESTMENT तो करना चाहते हैं लेकिन सारा पैसा equity me INVESTMENT नहीं करना चाहते हैं और कुछ paisa डेट इंस्ट्रूमेंट्स में भी INVESTMENT करना चाहते हैं, इसलिए हाइब्रिड म्यूचुअल फंड उनके लिए हैं अगर ज्यादातर पैसा डेट फंड में INVESTMENT किया जाता है तो इसे बैलेंस्ड सेविंग फंड कहा जाएगा। लगभग % 70:30 है, यानी आपका 70% पैसा कम RISK वाले डेट फंड में है और 30% इक्विटी फंड में है।

और agar ise ulta kar diya jaye, yani 70% उच्च RISK वाले इक्विटी फंड में है aur 30% डेट फंड me , तो इसे बैलेंस्ड एडवांटेज फंड कहा जाता है। dosto, हाइब्रिड म्यूचुअल फंड भी अलग-अलग प्रकार के होते हैं लेकिन दोस्तों मुझे लगता है कि मैंने आपको बहुत सारी जानकारी di है aur अब मैं इसे आप पर छोड़ता हूं, aap khud isse explore kare, samje aur apke liye achcha mutual fund khoje. ।

Mutual Funds me Investment ka Kya Fayda he ?

अन्य INVESTMENT की तुलना में म्यूचुअल फंड का सबसे बड़ा फायदा यह है कि यह पहले से ही Diversified है। Diversification के कारण आपका RISK बहुत कम हो जाता है। क्योंकि आप एक जगह INVESTMENT नहीं कर रहे हैं, इसलिए अगर एक Stock ya sector loss me jata है तो यह आपके portfolio ko jyada asar nahi pahochata he. तो शेयर बाजार की तुलना में, सोना, रियल एस्टेट, म्यूचुअल फंड कम RISK भरा है

हालांकि सटीक RISK उस म्यूचुअल फंड पर निर्भर करता है जिस पर आप INVESTMENT कर रहे हैं। एक और अच्छा फायदा यह है कि यह सस्ती है, आपको कुल मिलाकर एक बड़ी राशि का INVESTMENT करने की आवश्यकता नहीं है आप SIP का उपयोग कर सकते हैं और हर महीने एक छोटी राशि का INVESTMENT कर सकते हैं। और म्यूचुअल फंड का सारा control एक Investment Expert या एक फंड मैनेजर द्वारा किया जाता है, jo तय karta he कि कहां INVESTMENT करना है और कहां नहीं। आपको kuchch bhi karne ki आवश्यकता नहीं है इसलिए यह फिर से एक बड़ा फायदा है कि एक विशेषज्ञ आपके लिए काम कर रहा है।

Mutual Fund ka nuksan kya he ?

लेकिन दोस्तों इस म्यूच्यूअल फण्ड का एक नुकसान भी है। यदि आप इसे किसी Anjan व्यक्ति को दे रहे हैं, तो आप नहीं जानते कि यह कैसा प्रदर्शन करने वाला है। हालाँकि वह एक Expert है लेकिन आप 100% भरोसा नहीं कर सकते कि wo हर समय सही रहेगा।

सबसे बड़ा नुकसान जो पहले म्यूच्यूअल फण्ड के लिए हुआ करता था वो ये कि एजेंट म्यूच्यूअल फण्ड में INVESTMENT करने के लिए काफी कमीशन लेते थे। वे कहते हैं कि हमें वह पैसा दें जो हम आपके लिए म्यूचुअल फंड में INVESTMENT करेंगे. Ye log ek agent ki tarah he jo apke aur apke Mutual Fund company ke bich me rah kar 1% se 2% ka commission khate he. Agar aap ek agent ke trhough mutual fund me Invest kar rahe he to use Regular Plan kaha jata he.

Mutual Fund me Invest kaise kar sakte he ?

Lekin dosto ab aap direct bhi mutual fund me Invest kar sakte he. Aisi kayi sari Apps he jaise Groww, Zeredha, ET Money, IndMoney etc jaha aap Direct Mutual fund me nivesh kar 1% se le kar 2% tak save kar sakte he Isse Direct plan kaha jata he. Dosto jab aap long term ke liye nivesh karte he to ye 1%-2% lakho me hota he jise ye agent chau kar jate he.

Wrap Up

मुझे आशा है कि दोस्तों आपको सीखने के लिए बहुत कुछ मिला होगा इसलिए इस article को Share करें अपने दोस्तों और परिवार को, उनके साथ भी ye knowledge share kare और उन्हें म्यूचुअल फंड INVESTMENT के बारे में भी सिखाएं।

Previous articleElon Musk Net Worth 2021 | How Elon Musk become Rich in Hindi
नमस्कार साथियो, मैं माहि पटेल, HindiAlert.in (हिंदी ब्लॉग अलर्ट ) की लेखक और सहायक निर्माता हूँ। में एक मास्टर ग्रेजुएट हु इंजीनियरिंग में और एक कॉलेज में अध्यापिका हु. मेरी हमेशा से ही नयी नयी चीजे पढ़ने में और सिखाने में रूचि रही हे। हिंदी ब्लॉग पर में नयी नयी जानकारी साजा करती रहती हु. आपसे अनुरोध हे की मुझसे जुड़े रहे और आपका सहयोग देते रहे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here